पुस्‍तक बिक्री के नियम

 

1.       पुस्‍तकालयों एवं विद्यार्थियों के लिए 15%  की छूट दी जाएगी।

2.       अध्‍यापकों को निजी प्रयोग के लिए 25%  की छूट दी जाएगी।

3.       पुस्‍तकें मंगवाने के लिए पूरा मूल्‍य मनीआर्डर द्वारा भेजना होगा।

4.       पुस्‍तक विक्रेताओं को नीचे लिखी दर के अनुसार छूट दी जाएगी-

(क)   रूपये 5000/- ग्रोस तक 25%

(ख)   रूपये 5001/- से 50000 ग्रोस तक 30%

(ग)    रूपये 50001/-  से 100000 ग्रोस तक 35%

(घ)    रूपये 100000/- ग्रोस से अधिक पर 40%

5.       दिल्‍ली से बाहर पुस्‍तकें ट्रासंपोर्ट एजेंसी के माध्‍यम द्वारा भेजी जाएंगी। इसमें ट्रांसपोर्ट का आधा खर्चा पुस्‍तक विक्रेता को देना होगा।

6.       यदि बिल में कोई गलती रह जाए जो उसका सुधार अगले बिल में कर दिया जायेगा।

7.       समस्‍त विवादों का न्‍याय क्षेत्र दिल्‍ली होगा।

8.       पुस्‍तक मंगवाने के लिए बिक्री विभाग को पत्र लिखे। मनीआर्डर, निदेशक, हिंदी माध्‍यम कार्यान्‍वय निदेशालय के नाम पर भेजें।

9.       अगर दिल्‍ली के बाहर से कोई पुस्‍तक विक्रेता क्षतिग्रस्‍त पुस्‍तकें वापिस करता है तो दो महीने से ज्‍यादा पुरानी पुस्‍तकें स्‍वीकार नहीं की जाएगी तथा पेड बिल्टी ही स्‍वीकार की  जाएगी।

चैक अथवा ड्राफ्ट, ‘’रजिस्‍ट्रार, दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय, दिल्‍ली’’ के नाम से बना कर भेजें।

 

नोट: पुस्‍तक विक्रेता पुस्‍तकों का आदेश आर्डर फार्म पर लाएं अन्‍यथा आपका आदेश मान्‍य नहीं होगा।

हमारें यहाँ अन्‍य हिंदी ग्रंथ अकादमियों और वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्‍दावली आयोग के प्रकाशन भी उपलब्‍ध हैं।

                                                                                                                                                          scan0022