गतिविधियाँ

निदेशालय में पुस्तक प्रकाशन से संबंधित कई गतिविधियां चलती रहती हैं। निदेशालय हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों के लिए मानक सामग्री उपलब्ध करवाता है। निदेशालय द्वारा सामग्री तैयार करने के लिए विभिन्न विभागाध्यक्षों की सहायता एवं परामर्श लिया जाता है। सामग्री तैयार करने के लिए निम्नलिखित पद्धतियाँ अपनाई जाती हैं :

1. पाठ्यक्रम के अनुसार मूल रूप से हिंदी में तैयार पुस्तकें।

2. अंग्रेजी में प्रकाशित प्रख्यात विद्वानों की पुस्‍तकों का हिंदी अनुवाद, सम्बन्धित विभाग के साथ मिलकर विशेष पेपर को ध्यान में रखकर सेमिनार का आयोजन और उसमें प्राप्त पेपर्स अगर अंग्रेजी में आए हैं तो उनका हिंदी अनुवाद कर वैटिंग तथा भाषा संपादन करवा कर अथवा हिंदी में प्राप्त पेपर्स का भाषा संपादन करवा कर पुस्तक के रूप में प्रकाशित करना। 

3. हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों को हिंदी में उत्कृष्ट पाठ्य सामग्री/ पुस्तकों की लगातार मांग को मद्देनजर रखते हुए कुछ विभाग नए पाठ्यक्रम के अनुसार कार्यशालाएँ/सेमिनार आयोजित कर (जिसमें दिल्ली विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजों में पढ़ाने वाले प्राध्यापक /प्रोफेसर मिलकर) किसी एक विशेष पेपर से सम्‍बन्धित पाठ्य सामग्री तैयार करते हैं। 

 इस सामग्री को सीनियर प्राध्यापक /प्रोफेसर संपादित करके निदेशालय में भिजवाते हैं और पाठ्य सामग्री का भाषा संपादन कर निदेशालय इसे प्रकाशित करता है। नए पाठ्यक्रम के अनुसार इस प्रकार की पाठ्य सामग्री/पुस्तकें निदेशालय से प्रकाशित की गई हैं।

निदेशालय का ‍‍‍‍बिक्री विभाग विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों, कॉलेजों के अतिरिक्त उत्तरी भारत के विभिन्‍न्‍ा पुस्तक मेलों तथा प्रदर्शनियों में भाग लेता रहता है जिससे हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों को उनके गंतव्य स्थान पर ही पुस्तकें उपलब्ध हो जाती हैं।